Header Ads

  • नवीनतम

    Recent Posts:

    फ़क़ीर की ख़ुशी

    lotus


    स्वागतम् ।
    राजा ने फ़कीर को देखा । फिर पूछा अपने मंत्री से  "ये इतना खुश क्यों दिखता है ?"
    मंत्री ने कहा " क्योंकि इसे घमंड नहीं है । "
    " तो क्या घमंड न हो तो इंसान खुश रहेगा ? "
    " जी । महाराज ।"
    "तो क्या मैं घमंडी हूँ ?"
    मंत्री अपनी ही बात में फँस गया । पर वो था चतुर ।
    " पर, महाराज । आप तो दुनिया में सबसे ज्यादा खुश हो । किसी से भी पूछ लो । "
    राजा ने सबसे पूछा । सबने कहा  "राजा से ज्यादा खुश तो दुनिया में कोई हो ही नहीं सकता ।"
    पर,एक दिक्कत थी । जब भी वो अलमस्त फ़क़ीर उसके सामने से गुजरता , राजा को उसकी ख़ुशी देखकर बड़ी जलन होती । राजा को लगा कि सब मुझसे डरकर ऐसा बोल रहे हैं। यह फ़क़ीर तो मुझसे कहीं ज्यादा खुश है ।
    लगता है , मंत्री की बात सच है । शायद मुझमें घमंड है।
    उसी पल राजा ने सोच लिया " आज से मेरा और घमंड का कोई वास्ता नहीं । "
    कई दिन गुजर गए । राजा को लगने लगा की वो पहले से ज्यादा खुश है ।
    फिर एक दिन की बात है ।वो फ़क़ीर फिर सामने से गुजरा । ना जाने क्यों आज फिर राजा को उससे जलन महसूस हुई ।
    राजा परेशान हो उठा । उसने सोचा फ़क़ीर से ही पूछ लूँ ।
    राजा ने अपने रथ से फ़क़ीर को आवाज दी ।
    फ़क़ीर ने उस तरफ देखा फिर रथ की तरफ चला आया ।
    आते ही उसने रथ चलानेवाले सारथी को कहा " तेरे घोड़े तो बड़े शानदार हैं । और बता इनको तू खिलाता क्या है ?........."
    और फ़क़ीर मजे से उससे बातें करने लगा । राजा की तरफ तो उसका कोई ध्यान ही नहीं था । राजा परेशान ! उसकी आँखे थोड़ी सुर्ख होने लगीं ।
    थोड़ी देर बाद फ़क़ीर राजा की तरफ मुड़ा " बोलो सुल्तान । मुझसे कोई खता हो गयी क्या ? "
    राजा को लगा उसे फ़क़ीर ने अहमियत नहीं दी ।
    गुस्से में राजा बोला "तू मुझसे ज्यादा खुश कैसे है ? "
    फ़क़ीर मुस्कुराया फिर बोला " जब कोई तुझसे बात करने से पहले तेरे गाड़ीवान से बात करेगा और तेरी आँखे सुर्ख नहीं होंगी , उस दिन तू मुझसे ज्यादा खुश हो जाएगा ।"
    और फ़क़ीर अपने रास्ते चल पड़ा ।
    लेखक ---- राजू रंजन


    5 comments:

    1. संदेशपूर्ण...बहुत बढ़िया ।।।

      ReplyDelete
    2. संदेशपूर्ण...बहुत बढ़िया ।।।

      ReplyDelete
    3. वाह भाई राजू अपने बहुत अच्‍छा लिखा है इसे जारी रखिए। मुझे बहुत खुशी हुई इसे पढकर।

      ReplyDelete

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad